राजस्थान: जनता से मदद मांगेगी ‘AAP’, लेगी लोगो से इमानदार चंदा

670

जयपुर. देश की राजनीति को भ्रष्टाचार और काले धन की जकड से छुड़ाने के लिए पांच साल पहले आम आदमी पार्टी की नींव पड़ी थी और यही आम आदमी पार्टी का बुनियादी सिद्धांत भी है। आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के बाद राजस्थान की राजनीति को भ्रष्टाचार और काले धन की जंजीरों से आज़ाद कराने के लिए प्रदेश में आप स्वाभिमान राशि आन्दोलन का ऐलान करती है। आप ने कहां कि राजस्थान में होने वाले आगामी विधानसभा-लोकसभा चुनाव में जनता से माँगेंगे मददईमानदारी के चंदे से महात्मा गांधी ने लड़ी थी आज़ादी की लड़ाई और अब आम आदमी पार्टी लड़ेगी भ्रष्टाचार के खिलाफ आज़ादी की दूसरी बड़ी लड़ाई।

Image result for आप राजस्थान

राजस्थान में 10 महीने चलेगा आप स्वाभिमान राशि आन्दोलन…

आप राजस्थान के वरिष्ठ नेता गोपीलाल सुथार की ओर से पार्टी की कैंपेन कमेटी की बैठक में प्रस्ताव “आप स्वाभिमान राशि आन्दोलन” पेश किया गया। प्रस्ताव के मुताबिक प्रदेश में आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता और जनता के पवित्र पैसे से लड़ेगी चुनाव। सुथार के प्रस्ताव के मुताबिक़ 1 अगस्त 2018 से लेकर 31 मई 2019 तक चलने वाले इस आन्दोलन में-

  1. प्रदेश स्तर से लेकर विधानसभा स्तर के सभी पदाधिकारी हर महीने 1000 रुपये की स्वाभिमान राशि पार्टी को दान करेंगे।
  2. मंडल स्तर के सभी पदाधिकारी हर महीने 500 रुपये की स्वाभिमान राशि पार्टी को दान करेंगे।
  3. पार्टी के सभी सक्रिय सदस्य हर महीने 100 की स्वाभिमान राशि पार्टी को दान करेंगे।
  4. पार्टी के सभी विधानसभा उम्मीदवार जनता से 2 लाख रुपये की स्वाभिमान राशि दान(क्राउड फंडिंग के जरिये) लेकर पार्टी फण्ड में जमा करायेंगे।
  5. राजस्थान आप सोशल मीडिया टीम देश भर में राजस्थान चुनाव के लिए इस आन्दोलन का प्रचार प्रसार करेगी।
  6. Image result for आप राजस्थान

इस तरह आम आदमी पार्टी राजस्थान में कार्यकर्ता और जनता के पवित्र चन्दे से चुनाव लड़ेगी। ये चुनाव राजस्थान में राजनीति पर काले पैसे की जकड ढीली करेगा और आम जनता में ये विश्वास मजबूत करेगा, कि आम आदमी अपने मेहनत की कमाई से देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई को मजबूत करेगा। आप राजस्थान की प्रदेश स्तरीय कैंपेन कमेटी ने गोपीलाल सुथार के इस प्रस्ताव को भारी बहुमत से पास कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here