आप प्रत्याशी एम्पी चतर ने पत्रकार वार्ता को संबोधित कर नॉर्दन बाई पास फेज वन पर उठाये सवाल

नॉर्दन बाई पास फेज वन पर आप प्रत्यासी एम्पी चतर ने उठाये सवाल

276

कोटा: नॉर्दन बाई पास फेज वन पर झालीपुरा के किसानों की खड़ी फसल को रौंद कर बिना मुआवजा भुगतान के अधिग्रहण के नाम पर पड़ा सरकारी डाक। बेरोजगार अन्नदाता आज भी रोटी के लिए मोहताज है , जिन्हें रुलाना था भुगतान आजतक नहीं हुई, जिन्हें कृतार्थ करना था नये कानून के तहत दिया 8 गुना भुगतान । इनके लिए PWD का स्वीकृत प्रारूप विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट 1 को बदलकर बिना आधार , बिना कारण प्रोजेक्ट UIT कोटा को हस्तानांतरित कर दिया गया। जिसने 66 लाख 39 हजार के पारश्रमिक पर निजी सलाहकार CEG कंपनी को नई रिपोर्ट बनाने का ठेका दे दिया और राजमार्ग को घुमाव दे दिया। यह सब कार्यवाही दिनांक 20-4-11 से 25-4-11 तक मात्र 5 दिन में सम्पन्न हो गयी। दिनांक 5-7-11 को तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा स्वीकृत भी मिल गयी। जबकि UIT Kota को भूमि अधिग्रहित करने और नॉडल एजेंसी की नियुक्ति राजपत्र प्रकाशन दिनांक 6 माह बाद दिनांक 10-10-11 को ही गयी। इसके बाद दुबारा कांग्रेस की सरकार की मोहर लगवाने के लिए पुनः वही रिपोर्ट दिनांक 20-10-11 को भेज दी गयी।

बारां से झालीपुरा जाने के लिए यदि भारी वाहन 20-30 की गति से मुड़े तो 100 की गति से आते अन्य वाहनों का भगवान ही मालिक होगा।
कांग्रेस व भाजपा की सरकार में कोई भिन्नता नहीं, किसान पहले भी आत्महत्या के प्रयास में था और आज भी।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का ये कथन की “किसान किस से पूछकर धरने पर बैठे और किसने कहने पर धरने से उठे” ये तो सरासर सीएम वसुंधरा राजे की बेशर्मी की पराकाष्ठा है.

आम आदमी पार्टी कोटा भारत सरकार से समस्त प्रकरण की CBI जांच व किसानों के समान दर से बकाया अविलंब भुगतान की मांग करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here