ChhatraPolitics:दिल्ली,पंजाब के बाद अब आम आदमी पार्टी ने राजस्थान छात्रसंघ चुनावों में सीवाईएसएस में बडी पकड़ बनाई

503
जयपुर। राजस्थान प्रदेशभर में हुए छात्रसंघ चुनावों में पहली बार आम आदमी पार्टी ने भी अपनी छात्र इकाई छात्र युवा संघर्ष समिति को भी चुनावी मैदान में उतारा। जिसमें आज आये नतीजों में छात्र युवा संघर्ष समिति ने राजस्थान में अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करवाई है। फर्स्ट टाइम की लड़ाई में जो सफलता उन्हें हाथ लगी है, उससे पूरे राजस्थान प्रदेश भर में आम आदमी पार्टी को संगठन विस्तार को सदस्यता अभियान में बडी भूमिका मिलेगी।
https://twitter.com/DrKumarVishwas/status/904717498930544641
आप राजस्थान पर्यवेक्षक कुमार विश्वास ने ट्वीट कर राजस्थान की छात्र पॉलिटिक्स के चुनाव में छात्र युवा संघर्ष समिति और आप कार्यकर्ताओं को बधाई दी और सभी को एकजुट होकर बैक टू बेसिक के सिद्धांत पर काम कर संगठन को मजबूत करने को कहा।

छात्र राजनीति में आप की भूमिका……

सीवाईएसएस ने राजस्थान प्रदेश भर में हुए छात्र संघ चुनाव में संगठन के बैनर तले कुल 93 उम्मीदवार उतारे थे जिनमें से 51 उम्मीदवार जीतने में सफल रहे। जिनमें 12 कॉलेज में प्रेसिडेंट बने, जिनमें अजमेर से यूनिवर्सिटी प्रेसिडेंट भी शामिल है।
https://twitter.com/AamAadmiParty/status/904704507476557825
इस पर ज्यादा जानकारी के लिए हमने छात्र युवा संघर्ष समिति की राज्य कमेटी के जितेंद्र पूनिया से जब बात की तो तब उन्होंने बताया कि “हमने छात्रसंघ चुनावों में बेहतर प्रदर्शन के लिये प्रदेश को 5 संभागों में बांटा, जिससे चुनाव मैनेज करने में भी आसानी हुई और आशानुरूप परिणाम भी मिले।”

छात्रसंघ चुनाव में संभाग वार रिपोर्ट में CYSS भूमिका….

संभाग वार मिली रिपोर्ट के अनुसार CYSS से विजयी रहे
  1. बीकानेर से 16,
  2. जयपुर से 13,
  3. जोधपुर से 9,
  4. भरतपुर से 6 और
  5. उदयपुर से 6 उम्मीदवार विजयी रहे।

आप का अगला फोकस विधानसभा….

आगे भविष्य की रणनीति पूछने पर पूनिया ने बताया कि अब राजस्थान में आगे आने वाला हर चुनाव आम आदमी पार्टी मजबूती से लड़ेगी। हमारा मुख्य लक्ष्य राजस्थान में एक मजबूत राजनैतिक विकल्प देना है। जो इस बार हमने छात्रसंघ चुनावों में दिया और अब आने वाले हर चुनाव में देंगे। राजस्थान में अगली साल 2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव को अगला फोकस बताया, आगे बताया कि “अभी तो शुरुआत है, आगे विधानसभा चुनाव भी लड़ेंगे। ये तो प्रदेशभर में हमारी तैयारी परखने के लिये मौका था, जिसके लिये हमें ज्यादा समय भी नहीं मिला था। लेकिन फिर भी बहुत ही कम समय मे बहुत ही अच्छा परिणाम मिला। अगली साल 2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले मजबूत विकल्प बनकर उभरेगी।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here