गुजरात में दलित युवक की मौत के मामले में निष्पक्ष जांच नही होने का आरोप लगाते हुए 200 दलितों ने दी बौद्ध धर्म अपनाने की चेतावनी

683

निष्पक्ष जांच नही होने का आरोप लगाते हुए धर्म परिवर्तन की चेतावनी…

अहमदाबाद। पिछले कुछ दिनों पहले दलित युवक की न्यायिक हिरासत में हुई मौत के मामले में निष्पक्ष जांच नही होने का आरोप लगाते हुए दलित समुदाय के लगभग 200 लोगों ने धर्म परिवर्तन की चेतावनी दी है
भलेही मंगलवार को अमरेली पुलिस ने सौंदरवा की हत्या के आरोप में उप-जेल से चार कैदियों को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने बताया कि जिग्नेश सौंदरवा की तबियत खराब होने की वजह से सदर अस्पताल में भर्ती किया गया था, जिसके बाद 15 जून को अस्पताल में ही इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। दलित समुदाय के सदस्यों और मृतक के रिश्तेदारों ने निष्पक्ष जांच नहीं होने के विषय में नाराजगी व्यक्त की और जिलाधिकारी कार्यालय में धर्म परिवर्तन के लिए फ़ॉर्म लेने पहुंचे।

गुजरात निषेध कानून में राजुला तहसील के डुंगर गांव से गिरफ्तार किया था…..

गुजरात निषेध कानून के तहत राजुला तहसील के डुंगर गांव से जिग्नेश को गिरफ्तार कर 12 जून को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था। लेकिन जिग्नेश के परिवारजनों का आरोप है कि पुलिस की पिटाई से जेल में भी उसकी मौत हुई। ऐसे में परिजनों ने जांच की मांग करते हुए पहले शव लेने से मना कर दिया। हालांकि बाद में शव ले लिया गया।
लेटेस्ट न्यूज अपडेट के लिए FIRST KHABAR पेज को LIKE और FOLLOW करे…..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here