अमित शाह की “युवा हुंकार रैली” में स्कूली छात्र-छात्राओं से रंगोली बनवाना पूरी तरह से अनुचित, शिक्षा के राजनीतिकरण पर क्या बोले विपक्षी दलों के नेता…?, यह जानने के लिए देखे

अमित शाह की "युवा हुंकार रैली" में स्कूली छात्र-छात्राओं से रंगोली बनवाना पूरी तरह से अनुचित, विपक्षियों ने शिक्षा का राजनीतिकरण करना बताया

806

जींद (चन्द्रशेखर धरणी): बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की जींद में हुई “युवा हुंकार रैली” में देखा गया कि स्कूली छात्र-छात्रों से फूलों की रंगोली बनाने का कार्य करवाया, सभी बच्चे जो बकायदा स्कूल ड्रैस पहने हुए थे। जहां जनता में इसको लेकर तीखी प्रतिक्रिया सामने आई कि एक पार्टी विशेष के कार्यक्रम में इस प्रकार स्कूली बच्चों से कार्य करवाना उचित नहीं है। वहीं विपक्षी दलों के नेताओं ने भी इसे लेकर सरकार पर तीखे प्रहार किए।
हरियाणा कांग्रेस के प्रदेश कोषाध्यक्ष तरुण भंडारी ने कहा कि स्कूली छात्राओं से यह कार्य करवाकर सरकार शिक्षा का राजनीतिकरण कर रही है। यह रैली सरकार की न होकर एक संगठन की रैली थी। जिसमें छात्राओं से रंगोली बनवाना के कार्य को उचित नहीं ठहराया जा सकता है। इससे पता चला है सरकार किस प्रकार से शिक्षण संस्थानों में दखल कर पार्टी विशेष के कार्यक्रम के लिए स्कूली बच्चों से कार्य करवा रही है।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) को यह कार्य करने के लिए संगठन की महिला विंग की ड्यूटी लगानी चाहिए थी। सामाजिक कार्यकर्ता सुमित बंसल ने कहा कि किसी राजनीतिक कार्यक्रम में स्कूली छात्राओं की ड्यूटी लगाया जाना पूरी तरह से गलत है। इसके लिए कलाकारों की सेवाएं ली जानी चाहिए न कि स्कूली बच्चों को ऐसे मामले में घसीटा जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here