CBI और लोकायुक्‍त ने केजरीवाल को दी क्‍लीन चिट, कपिल मिश्रा का 2 करोड़ का आरोप खारिज

136

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और राज्य सरकार में स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को बड़ी राहत मिली है। दिल्ली के लोकायुक्त और सीबीआई ने सीएम केजरीवाल और सत्येंद्र जैन को राज्य के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा द्वारा लगाए गए रिश्‍वत मामले में क्लीन चिट दे दी है। बता दें कि कपिल मिश्रा ने पिछले साल मई महीने में सीएम और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री पर 2 करोड़ रुपये रिश्वत लेने का सनसनीखेज आरोप लगाया था। मिश्रा ने आरोप लगाया था कि उनके सामने सत्येंद्र जैन ने सीएम केजरीवाल को दो करोड़ रुपये दिए थे।

कपिल मिश्रा ने ये शिकायत लोकायुक्त के सामने की थी। लेकिन जब लोकायुक्त ने कपिल मिश्रा से इस मामले में सबूत मांगे तब उन्होंने कहा था कि सबूत सीबीआई को दे दिए हैं। जिसके बाद सीबीआई ने अपनी रिपोर्ट में लोकायुक्त को बताया कि केजरीवाल और सतेंद्र जैन के खिलाफ मामले में कुछ भी नहीं मिला। इसके बाद लोकायुक्त ने मामले को बंद कर दिया है।

Image result for कपिल मिश्रा और केजरीवाल

इस मामले में आम आदमी पार्टी (आप) ने प्रेस कॉन्फेंस कर कपिल मिश्रा पर निशाना साधा है। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा, “6 मई 2017 को कपिल मिश्रा को उनके मंत्रिपद से हटाया गया तो उसके अगले दिन ही कपिल मिश्रा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अरविंद केजरीवाल के ऊपर 2 करोड़ रुपए रिश्वत लेने के झूठे आरोप लगा दिए।”

उन्होंने आगे कहा कि कपिल मिश्रा ये बताएं कि उन्होंने कितने बजे अरविंद केजरीवाल को रिश्वत लेते हुए देखा था?
वे उस दिन CM हाउस आए ही नहीं, और जब उनसे समय पूछा गया तो कपिल मिश्रा कहते हैं कि CBI को ही बताएंगे और जांच के दौरान 1 साल में भी CBI को समय नहीं बता पाए।”

आप नेता मीडिया से गुजारिश करते हुए कहा, “मेरी मीडिया के सभी लोगों से निवेदन है कि जिस प्रमुखता के साथ झूठे आरोपों की खबर चलाई थी, उसी प्रमुखता के साथ इस ख़बर को चलाएं क्योंकि ये एक मुख्यमंत्री के ऊपर लगे रिश्वतखोरी के झूठे आरोपों का सवाल है। आप सभी को ये सवाल BJP, LG, कपिल मिश्रा सभी से पूछने चाहिए।”

उन्होंने कहा कि कपिल मिश्रा लोकायुक्त, LG, CBI के पास गए पर किसी को भी सबूत नहीं दे पाए। लोकायुक्त के सबूत मांगने पर कहा कि CBI को सबूत देंगे, परंतु CBI को भी कोई सबूत ना दे पाने के कारण लोकायुक्त और CBI दोनों ने ये बात मानी की आरोप निराधार हैं इसलिए केस को बंद कर दिया गया।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here