2018 में हो सकता है लोकसभा और बिहार विधानसभा का चुनाव एक साथ : फातमी

887

दरभंगा(ज़ाहिद अनवर) -पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री और सह वरिष्ठ राजद नेता मो अली अशरफ फातमी ने शनिवार को अपने पंडासराय स्थित आवास पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नितिश के गठबंधन(जदयू + बीजेपी = एनडीए) सरकार और केंद्र मोदी सरकार पर जमकर तिखे तेवरों से जमकर कटाक्ष किया। फातमी ने बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ 21 जनवरी को आयोजित होने वाली मानव शृंखला को सरकार का गैर जरुरी कदम बताते हुए इसे राज्य के विकास के मुद्दे से ध्यान हटा कर गैर जरूरी काम मे समय व्यतीत करने वाला कदम बताया।
उन्होंने कहा की बाल विवाह और दहेज के खिलाफ जागरूकता वाला काम किसी एनजीओ या स्वयं सेवी संस्थाओं के जरिए करवाना चाहिए था, ना की पूरी सरकार और मशीनरी को इसमे झोंक देना चाहिए।

शराब बंदी से कोई फायदा नही…

फातमी ने बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ केन्द्र और  प्रदेश सरकार के तहत आयोजित होने वाली मानवीय शृंखला को सरकार का गैर जरुरी कदम बताने के साथ ही राज्य बिहार मे शराब बंदी से कोई फायदा नही होना बताया। शराब अब भी बिहार मे हर जगह मिल रही है, नितीश  सरकार का ये कदम भी विफल साबित हो रहा है। प्रदेशभर में कही भी नई सड़क पुल वगैरह नही बन रही है। एक प्रकार से बिहार राज्य में विकास की गती रुक गई है।
उन्होंने कहा कि अब तो नितिश सरकार का ये बहाना भी नही चलेगा कि पैसा नही है क्योंकि केन्द्र मे भी अब उन्ही के गठबंधन की सरकार है। मोदी ने सवा लाख करोड़ रुपये देने का घोषणा कर बिहार और देशभर से  जो वाहवाही बटोरी थी । सीएम नितिश कुमार को पीएम नरेंद्र मोदी से जाकर घोषणा किया हुआ पेशा  लाये और राज्य में किसी अच्छे कार्यों में खर्च करे ताकि अपना बिहार का विकास हो। लेकिन ये(नितीश) अब नही मांगते क्योंकि इनके गठबंधन(जदयू +बीजेपी) की सरकार सिर्फ जात-पात की राजनीति करने के चलते व्यस्त है। विकास का मुद्दा गौण हो गया है।
इस अवसर पर अली अशरफ फातमी ने कहा की ये वर्ष 2018 बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि ऐसी आशंका है की लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ हो। वही हमारी पार्टी बिहार मे तेजस्वी यादव के नेतृत्व मे आम जनता के बीच जायेगी और आम जनता सब सच जान चुकी है और हमारी पार्टी के साथ है। चुनाव चाहे जब भी हो जनता नितिश सरकार को सबक सिखायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here