Delhi : बच्चियों की भूख से मौत मामले में बड़ा खुलासा, मकान मालिक ने भी दिखाई थी हैवानियत

900

देश की राजधानी दिल्ली के मंडावली में तीन बच्चियों की भूख से मौत के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है।  मकान मालिक ने मंगल का सामान घर के बाहर फेंक दिया था। दरअसल, प्रीत विहार में अपना रिक्शा लुटने के बाद मंगल सीधे अपने मालिक के घर पहुंचकर बताया था कि बदमाशों ने उसकी पिटाई कर रिक्शा लूट लिया है। आरोप है कि मालिक पंकज ने मंगल को बुरी तरह पीटा था। बाद में कमरा खाली करने के लिए बोल दिया था। शनिवार सुबह मंगल किसी काम से बाहर निकला, वापस आने पर उसने देखा कि उसकी पत्नी व बच्चे बाहर बारिश में बैठे हैं। सामान भी बाहर बिखड़ा पड़ा है। मंगल बच्चों की हालत देखकर सीधे नारायण के पास पहुंचा।

बच्चियों की मां

उसने नारायण को सारी बात बताई। नारायण के कहने पर मंगल बच्चों को लेकर उसके कमरे पर आ गया। यहां वह बच्चों के खाने के लिए जद्दोजहद करने लगा। नारायण ने बताया कि वह मंगल से करीब 25-30 साल पहले आईटीओ स्थित होटल पर मिला था। दोनों की दोस्ती हुई। दोनों एक साथ रहे भी, लेकिन कुछ सालों बाद मंगल वापस पश्चिम बंगाल चला गया। लेकिन वह नारायण के संपर्क में रहा।

इधर, 12 साल पूर्व मंगल शादी कर दोबारा दिल्ली आ गया। नारायण ने ही उसे कमरा दिलवाया था। यहां मंगल अलग-अलग जगह नौकरी कर कमरा भी बदलता रहा। लेकिन उसे शराब की लत लग गई। मंगल की पत्नी वीना भी मानसिक रूप से बीमार हो गई। यहां तक बच्चियां कुपोषण का शिकार हो गई। शिखा और पारुल तो देखने में बेहद कमजोर लगती थीं। बच्चियों की तबीयत खराब हुई, ऊपर से उन्हें खाना नहीं मिला। ऐसे में उन्होंने तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया।

उनसे इस मामले में किन परिस्थितियों में मौतें हुईं, पूर्ण विवरण के साथ इसकी तथ्यात्मकक रिपोर्ट, पोस्टमार्टम रिपोर्ट की प्रति, कब से बच्चियां भूखी थीं, मां-बाप के स्वास्थ्य की स्थिति व मामले के जांच की स्थिति रिपोर्ट मांगी है। स्वाति का कहना है कि यह काफी गंभीर मामला है। इसकी जवाबदेही तय होनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि मंडावली इलाके में एक ही परिवार की आठ साल, चार साल की व दो साल की बच्ची की भूख से मौत होने की घटना सामने आई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here