12 मार्च को पश्चिम बंगाल में हुई किसान- मजदूर महापंचायत | चलाया ट्रेंड #NoVoteToBJP

269

12 मार्च को पश्चिम बंगाल में हुई किसान- मजदूर महापंचायत | चलाया ट्रेंड #NoVoteToBJP

12 मार्च को पश्चिम बंगाल में हुई किसान- मजदूर महापंचायत

पूरे भारत में सरकार के द्वारा बनाए गए कृषि कानूनों के विरुद्ध कई महीनों से बहुत जोरदार विरोध प्रदर्शन हो रहा है जो कि अब रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है क्योंकि मोदी सरकार किसानों की तीनों कृषि कानूनों को लेकर मांग पूरी करने में कोई दिलचस्पी नहीं ले रही है और इसीलिए लोगों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है जिसकी वजह से यह आंदोलन अब सारे देश में तेजी से फैल रहा है।

यहां बता दें कि किसान मजदूर महापंचायत का आयोजन 12 मार्च 2021 को कोलकाता में हुआ जिसमें संयुक्त किसान मोर्चा के लीडर राकेश टिकैत के अलावा योगेंद्र यादव, बलवीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी जैसे शीर्ष नेताओं ने भाग लिया |

बताते चलें कि संयुक्त किसान मोर्चा ने यह 12 मार्च को 12:30 बजे से कोलकाता प्रेस क्लब में सभी किसान मजदूरों की कॉन्फ्रेंस की जो कि 2:30 बजे तक चली, जिसके बाद फिर सभी आंदोलनकारी वहां से रामलीला पार्क गए और वाहन रैली भी निकाली गयी |

संयुक्त किसान मोर्चा का यह आंदोलन 12 मार्च से लेकर 14 मार्च तक पश्चिम बंगाल के कई अलग-अलग क्षेत्रों में चलेगा जहां पर महापंचायत की जाएगी | 13 मार्च को नंदीग्राम और 14 मार्च को सिंगुर में किसान महापंचायत का आयोजन भी किया जाएगा ।

अब यहां आपको यह बता दें कि इस महापंचायत का मुख्य उद्देश्य देश के सभी किसानों से संपर्क करना है और उनसे यह कहना है कि चुनाव होने पर कोई भी नागरिक बीजेपी को वोट ना दें बल्कि किसी भी राजनीतिक पार्टी को दे दें। बता दें कि उनके इस कदम से बीजेपी पार्टी के लिए चुनाव के दौरान काफी मुश्किलें पैदा हो सकती हैं लेकिन मोदी सरकार का रवैया कृषि कानूनों को लेकर काफी सख्त और नकारात्मक है जिससे किसानों में हताशा और गुस्सा ज्यादा बढ़ गया है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here