DTC बसों में कैमरे लगाना पैसे की बर्बादी – मेनका गाँधी का बेतुका ब्यान

241

दिल्ली – दिल्ली में कुछ ही वर्षो पहले एक बलात्कार की घटना ने सारे देश को शर्मशार कर दिया था और तभी से राजधानी दिल्ली में महिलाओं के सुरक्षा को लेकर सवाल उठने लगे थे, ऐसे में केंद्र सरकार ने निर्भय के नाम से फण्ड तो रखना शुरू कर दिया था लेकिन केंद्र सरकार उसको खर्च करने में नाकाम रही है |

जहाँ एक और दिल्ली सरकार अपने स्तर पर दिल्ली की सरकारी बसों यानी डीटीसी बसों में महिलाओ के सुरक्षा के लिए इंतजाम करने में लगी है वहीं दूसरी और केंद्र सरकार तथा केंद्रीय मंत्री इस तरह के बेतुके ब्यान देने से बाज़ नही आ रहे है , केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री, मेनका गांधी का कहना है कि- DTC की बसों में CCTV लगाने से जनता के पैसों की बर्बादी होगी, क्योंकि बस में भीड़भाड़ होने से छेड़छाड़ करने वाला नहीं पकड़ा जा सकेगा. राजस्थान की बसों में कैमरे लगे, जिसके सकारात्मक परिणाम नहीं आए. इसलिए सरकार को नहीं दिया फंड

मेनका ने कहा कि पैसा देश की जनता का है, इसे ऐसे ही बर्बाद नहीं किया जा सकता. यही वजह रही कि उन्‍होंने अरविंद केजरीवाल सरकार की ओर से बसों में सीसीटीवी लगाने के लिए मांगे गए निर्भया फंड के लिए मना कर दिया. गांधी ने कहा कि सीसीटीवी की जगह बसों में सुरक्षा के लिए जरूरी है कि सीट सिस्‍टम ठीक किया जाए.

आपको बता दें की दिल्ली सरकार ने निर्भय फण्ड के जरिये मिलने वाली राशी से दिल्ली की बसों में CCTV कैमरे लगाने की योजना बनाई थी, जिसको लेकर दिल्ली सरकार ने पायलट प्रोजेक्ट के तहत कुछ रूट्स पर परिक्षण भी किया था | इससे पहले आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार अपने चुनावी वायदे को पूरा करते हुए बसों में मार्शल्स की तैनाती भी कर चुकी है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here