चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केन्द्र का लोकार्पण किया

272

सीकर 5 अगस्त। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्यमंत्री बंशीधर खण्डेला ने शनिवार को जिला मुख्यालय पर नेहरू पार्क के पास 16 करोड़ रूपये की लागत से नवनिर्मित राजकीय मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केन्द्र का फीता काटकर विधिवत लोकार्पण एवं शिला पट्टिका का अनावरण किया। इस अवसर पर समारोह के मुख्य अतिथि देवस्थान राज्यमंत्री व जिले के प्रभारी मंत्री राजकुमार रिणवा थे। अध्यक्षता राज्य सैनिक बोर्ड के अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजौर ने की। विशिष्ट अतिथि जिला प्रमुख सुश्री अपर्णा रोलण, सीकर विधायक रतनलाल जलधारी, नगर सुधार न्यास के अध्यक्ष हरिराम रणवां, उप-जिला प्रमुख शोभसिंह एवं वार्ड 14 की पार्षद श्रीमती कंचन कुमावत, जिला कलेक्टर नरेश कुमार ठकराल , राजस्थान मेडिकल कॉलेज के प्रिन्सिपल एण्ड कन्ट्रोलर डॉ. गोवर्धन मीणा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. विष्णु मीणा एवं प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. एस.के. शर्मा, शहर के गणमान्य नागरिक, आम नागरिक, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी डॉ. बी.एल. राड़, श्री कल्याण अस्पताल के डॉक्टर व स्टॉफ उपस्थित थे।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री बंशीधर बाजिया ने कहा कि सीकर जिले व आस-पास के लिए चूरू, नागौर, झुंझूनु के लिए सौभाग्य का दिन है। आज नवनिर्मित भवन के बनने से गरीब दीन-दुखियो एवं असहाय परिवारों के गरीबों को सीधा लाभ मिलेगा। उन्होंने विश्वास दिलाया कि शिशु रोग डॉक्टर, गायनिक, कम्पाउडर, नर्सिग स्टॉफ की कमी को जल्द ही पूरा किया जायेगा, साथ ही आवश्यकता का सामान, सुविधाएं एवं उपकरणों की आपूर्ति भी कर दी जायेगी।
उन्होंने कहा कि इतने कम समय में 100 बैडों वाले इस स्वास्थ्य केन्द्र में 165 रोगी अपना ईलाज करवा रहे है। यहां पर बेड़ो की अतिरिक्त सुविधा तत्काल उपलब्ध करवाकर सुविधा प्रदान की गई। उन्होंने कहा कि यह सम्भव हुआ डॉक्टरों, नर्सिग, गायनिकों के सहयोग से कम संसाधान होने के बाद ही बहुत सी डिलिवरी हुई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री वसुधरा राजे ने आम जनता को बेहतर चिकित्सा उपलब्ध कराने के लिए भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना शुरू की है जिससे गम्भीर से गम्भीर बिमारीयों का ईलाज निःशुल्क उपलब्ध करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा की जिले में 42 हजार लोंगो ने योजना का लाभ उठाया है जिनको 26 करोड़ रूपये की सहायता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के सानिध्य में प्रदेश में नये सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र स्वीकृत किये गये और उनके भवन निर्माण के लिए 20 करोड़ रूपये स्वीकृत किये।
उन्होंने कहा कि प्रदेश में 8 नये मेडिकल कॉलेज स्वीकृत हुये इन कॉलेजों में पी.जी. करने वाले व डॉक्टरो को लाभ मिलेगा और यहां पर अगले 5 सालों में डॉक्टर आने लगेंगे। उन्होंने कहा कि मरीजो को देखते हुए श्री कल्याण अस्पताल छोटा पड़ेगा उसके विस्तार के लिए 8 हैक्टेयर जमीन की आवश्यता पड़ेगी। समारोह के मुख्य अतिथि देवस्थान राज्यमंत्री एवं जिले प्रभारी मंत्री राजकुमार रिणवां ने कहा कि आज का युग मेडिकल सांईस का है परन्तु अधिक आवश्यकता पड़ने पर ही मरीज का ऑपरेशन करें नहीं तो साधारण डिलिवरी करवाने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि भगवान का दुसरा रूप डॉक्टर होता है वे पूण्य का कार्य करते हुये अपने दायित्व का निर्वहन कर मानवता की सेवा करें। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं का नारा दिया है कि हमें हर हालत में बालिकाओं की रक्षा व देखभाल करनी चाहिए ताकि वे भी देश को अपना योगदान दे सकें। राज्य सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजौर ने डॉक्टरो से कहा कि अस्पताल में आने वाले मरीजो व उनके साथ आने वाले परिजनो के साथ अच्छा व्यवहार से बात करें।
आपके सद व्यवहार से मरीज की कुछ बीमारी दुर हो जाती है। उन्होंने जनाना अस्पताल में राज्य सरकार की तरफ से सभी सुविधाए व डॉक्टरों की कमी को दूर करने का आश्वासन दिया।
सीकर विधायक रतनलाल जलधारी ने कहा कि जिले के लिए खुशी का दिन है अथक प्रयायो के बाद मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केन्द्र की शरूआत की गई। उन्होंने कहा कि जनसंख्या वृद्वि को देखते श्री कल्याण अस्पताल छोटा पड़ रहा था। इस विंग को शिफ्ट कर राज्य सरकार ने बहुत ही अच्छा कार्य किया है उन्होंने कहा कि यहां पर नागौर, चुरू, झुझूंनु के जिले के लोगों को ईलाज की सुविधा मिलेगी जिससे मरीजो को जयपुर नही जाना पड़ेगा।
जिला प्रमुख अपर्णा रोलण ने कहा कि राज्य सरकार के प्रयासों से यहां की सुविधाओं में विस्तार किया जाएगा।
नगर सुधार न्याय के अध्यक्ष हरिराम रणवां ने कहा कि मुख्यमंत्री व जिला प्रशासन के अथक प्रयासों से स्वास्थ्य केन्द्र की शुरूआत की गई। जिले में मेडिकल कॉलेज जल्दी ही शुरू कर दिया जाएगा।
मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. गोवर्धन मीणा ने कहा कि मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केन्द्र के शुरू होंने से श्री कल्याण अस्पताल से इस विंग को शिफ्ट कर लिया गया है। इस केन्द्र में आठ दानवीर भामाशाहों ने तीन वाटर कूलर, कुर्सियां और एक आरओ भेट किया है। उन्होंने कहा कि मरीजो की देखभाल के लिए गायनिक डॉक्टर हमेशा रहती है। भविष्य में मरीजो की देखभाल व सुरक्षा के लिए श्रीकल्याण अस्पताल में हाईटेक लेबोरेट्री, हाईटेक ईलाज सम्भव हो सकेगा।
जिला कलेक्टर नरेश कुमार ठकराल ने कहा कि 16 करोड़ रूपये की लागत से 9 हजार वर्ग मीटर में विशाल भवन का निर्माण करवाया गया है। अस्पताल में 100 बेड़ की सुविधा है जिसमें मात्र एवं शिशु के स्वास्थ्य की देखरेख की सभी सुविधाए उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज का कार्य आरएसएलडीसी द्वारा शीघ्र ही शुरू करवा दिया जायेगा। राज्य सरकार का प्रयास रहेगा कि आगामी वितीय वर्ष में शुरू करवा दिया जाएं। इस अवसर पर अस्पताल के प्रभारी डॉ. बी.एल. राड़, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. विष्णु मीणा, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. एस.के शर्मा ने सम्बोधन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here