नाराज भगवंत मान की तबियत बिगड़ी, मिलने आये केजरीवाल, सिसोदिया

132

दिल्ली: आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान गुर्दे में पथरी होने की शिकायत के बाद दिल्ली के राम मनोहर लोहिया में इलाज करा रहे हैं। भगवंत मान को देखने के लिए बुधवार को सीएम अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया अस्पताल पहुंचे।

कुछ देर बाद ही पार्टी के राज्यसभा सदस्य सुशील गुप्ता भी अस्पताल पहुंचे। जिसको लेकर ये चर्चा होने लगी कि पंजाब में पार्टी के फैसले से नाराज मान को मनाने की कोशिश चल रही है।

Image result for BAHGWANT MAAN WITH KEJRIWAL AND SISODIYA

अचानक बिगड़ गई थी भगवंत मान की तबीयत 
संसद के मानसून सत्र में सक्रिय रूप से हिस्सा ले रहे भगवंत मान की अचानक तबीयत बिगड़ गई थी, तब उन्हें राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनकी तबीयत में अब सुधार है और वो डाक्टर की निगरानी में हैं। अगले तीन-चार दिनों में उनको अस्पताल से छुट्टी भी मिल जाएगी।

थोड़ी देर ही अस्पताल में रुके

मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री दोनों तकरीबन 40 मिनट तक अस्पताल में रुके और भगवंत मान से बातचीत की। बाहर आने पर उपमुख्यमंत्री और पंजाब के प्रभारी मनीष सिसोदिया ने कहा उनकी तबीयत में सुधार हो रहा है।

ये पूछे जाने पर कि भगवंत मान, पार्टी के पंजाब में हरपाल सिंह चीमा को नेता विपक्ष बनाए जाने पर नाराज हैं, इस पर क्या बातचीत हुई? तो सिसोदिया ने कहा कि लोकतंत्र में विश्वास रखने वालों को पदों के पीछे नहीं भागना चाहिए। तो वहीं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बिना कोई बातचीत किए चले गए।

विडिओ साभार- http://hindi.eenaduindia.com

भगवंत मान ने जताई थी नाराजगी

पिछले दिनों पंजाब से पार्टी के विधायक हरपाल सिंह चीमा को मनीष सिसोदिया ने नेता विपक्ष बनाया था। जिसके बाद पंजाब में पार्टी के नेता नाराज हो गए। वो मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी मुलाकात करने दिल्ली आए थे। कई दिनों की चुप्‍पी के बाद आखिरकार आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान ने भी सुखपाल सिंह खैरा को नेता विपक्ष पद से हटाने के बाद उठे विवाद पर फेसबुक के जरिए प्रतिक्रिया दी।

भगवंत मान ने फेसबुक वॉल और ट्विटर पर लिखा था कि, दोस्तों अपने खून-पसीने से बनाई पार्टी में पिछले दिनों से चल रही कलह देखकर मन उदास है। विरोधी जरूर खुश होते होंगे। दुख ये है कि मेरे अधिकार क्षेत्र में कुछ भी नहीं। क्योंकि ये सारा अधिकार चुने हुए एमएलए का है। मैं तो ख़ुद अध्यक्ष के ओहदे से इस्तीफा दे चुका हूं। खैरा साहब मेरे बड़े भाई हैं और बहुत निडर व बेबाक नेता हैं।

सोशल मीडिया में मान ने सुनाई जमकर खरी-खोटी! 
साथ ही ये भी लिखा था कि मुझे उम्मीद है कि वो सभी के साथ मिल कर संकट का हल निकाल लेंगे। जिससे हम सभी मिल कर पंजाब के हकों के लिए लड़ सकें। इसके बाद तो वो आप के कार्यकर्ताओं, नेताओं सहित अन्य लोगों के निशाने पर आ गए। कई लोगों ने फेसबुक पर मान को जमकर खरी-खोटी सुनाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here