किसान महापड़ाव कल 1 सितंबर से, तैयार हो चुकी है बड़े किसान आंदोलन की रूपरेखा

1963

सीकर।  जिला मुख्यालय पर कृषि मंडी में कल 1 सितंबर से अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में किसानों का महापड़ाव होगा। हालांकि यह किसान पड़ाव पूरे राजस्थान प्रदेश में भी होगा, लेकिन सभी की नजर सीकर कृषि मंडी में होने वाले किसान पड़ाव पर रहेंगी। क्योंकि इस आंदोलन की अगवाई करने वाले अमराराम पेमाराम दोनों सीकर के ही हैं।

अखिल भारतीय किसान सभा , Akhil bhartiya Kisan Sabha, Farmers protest in Rajasthan, Farmer suicide in Rajasthan, Rajasthan News, Indian farmers news

अमराराम, पेमाराम और किसान सभा के अन्य नेताओं ने जिस तरह गांवों में संपर्क किया है और किसानों ने जिस जोश से पड़ाव के लिए गेंहू व चंदा इकट्ठा किया है, उसे देखकर कहा जा सकता है कि एक बड़े किसान आंदोलन की रूपरेखा तैयार हो चुकी है।

अखिल भारतीय किसान सभा , Akhil bhartiya Kisan Sabha, Farmers protest in Rajasthan, Farmer suicide in Rajasthan, Rajasthan News, Indian farmers news

इस महापड़ाव के लिए गांवों से किसानों ने भारी मात्रा में गेंहू इकट्ठा किया है धोद तहसील के मांडोता गांव में तो 60 क्विंटल गेहूं इकट्ठा किया गया है और 2150 लोगों ने किसान सभा की सदस्यता ली है। मांडोता की तरह ही अन्य गांवों में किसानों को भरपूर समर्थन मिल रहा है।

1 सितंबर से अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में किसानों का महापड़ाव होगा

इस आंदोलन की अगुवाई किसान सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमराराम कर रहे हैं जिनकी छवि एक मजबूत किसान नेता की है और 2005 के जयपुर पड़ाव के बाद से उन्हें किसान आंदोलनों का खिलाड़ी कहा जाता है।

जिस तरह का समर्थन इस पड़ाव को गांवों में मिल रहा है उसे देखकर फर्स्ट खबर की टीम का एनालिसिस है कि 1 सितंबर को सीकर में भारी तादाद में किसान जुटने वाले हैं।

आंदोलन की मुख्य मांगे….

  • किसानों का संपूर्ण कर्जा माफ किया जाए।
  • स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागु की जाएं।
  • पशु क्रूरता अधिनियम-2017 वापिस लिया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here