शादी के निमंत्रण पत्र के माध्यम से किसान आंदोलन व “प्रकृति-सरंक्षण” का संदेश !

1386

Marriage Card Stand With Nature

राजस्थान के सीकर जिले की रामगढ़ तहसील के फ़दनपुरा गाँव के निवासी जगदेवाराम जी फगेड़िया की अनोखी पहल-
अपने बेटे व बेटी की शादी के निमंत्रण पत्र के माध्यम से दिया “प्रकृति-सरंक्षण” का संदेश।उनके भांजे “स्टैंड विथ नेचर ” संस्था के राजस्थान प्रदेशाध्यक्ष मुकेश ऑल-राउंडर ने बताया की “जलवायु परिवर्तन” बहुत बड़ी समस्या है इसके लिए लोगों को जागरूक करने के लिए शादी में आने वाले प्रत्येक मेहमान को उनके स्वागत में एक ‘पेड़’ उपहार स्वरूप भेंट किया जाएगा।

“जिन्दाबाद जवानी – जिन्दाबाद किसानी”

साथ ही निमंत्रण के माध्यम से “जिन्दाबाद जवानी – जिन्दाबाद किसानी” के नारे को बुलंद करते हुए तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर में हो रहे किसान आंदोलन को भी अपना समर्थन दिया है।

शादी के कार्ड में शामिल किया गया है पर्यावरण संरक्षण के लिए शपथ पत्र –

जलवायु परिवर्तन आज पूरे विश्व के लिए एक बड़ा संकट बनकर उभर रहा है , जलवायु को संतुलित करने के लिए हम सबके साझे प्रयासों की आवश्यकता है , आइए आज इस विवाह के इस शुभ मौके पर हम जलवायु को संतुलित करने की प्रतिज्ञा लें –

1 – हम अपने जन्मदिन के अवसर पर एक पौधा लगाएंगे व उसकी उचित देख रेख करेंगे , अपने आस पास के लोगो को इस बारे में उत्साहित करेंगे।

2- हम अपने घर से सिंगल यूज प्लास्टिक को बाहर करेंगे व भविष्य में कभी प्रयोग नही करेंगे।

3- अन्न का एक दाना बनाने के लिए किसान बहुत मेहनत करता है , उसी दौरान कॉर्बन भी उत्सर्जित होता है , इसलिए किसान के सम्मान में व जलवायु परिवर्तन को सन्तुलित रखने के लिए हम खाने का एक दाना भी व्यर्थ नही जाने देंगे ।

4- पृथ्वी पर सभी जीवों का एकसमान अधिकार है ,इसलिए हम सभी जीवों का सम्मान करेंगे व किसी जीव को हानि नही पहुँचाएंगे।

5- स्टैंड विद नेचर सँस्था से जुड़कर हम देश व प्रदेश में पर्यावरण संरक्षण की इस मुहिम को लोगो तक लेकर जाएँगे व जलवायु परिवर्तन को संतुलित करने का प्रयास करेंगे।

शपथ पत्र के साथ साथ कार्ड के साथ एक पौधा भी रिस्तेदारों के घर पहुँचाया जा रहा है ।

जलवायु परिवर्तन के बारे में जागरूक करता ये शादी का कार्ड राजस्थान में इस तरह का अपने आप में एक अनोखी व जरूरी मुहिम का अगुवा बनता दिख रहा है , राज्य में लोगो में जलवायु परिवर्तन व पर्यावरण संरक्षण को लेकर तेजी से जागरूकता आ रही है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here