जनता पाकिस्तान से बदले की उम्मीद लगाए बैठी है और मोदी जी है कि चुनावी रैलियां कर रहे है !

225

पुलवामा में भारतीय सुरक्षाबलों पर हुए आतंकवादी हमले के बाद भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने शुक्रवार को कहा था कि उनकी पार्टी ने आतंकी हमले में शहीद हुए 42 सीआरपीएफ जवानों के साथ एकजुटता प्रदर्शित करते हुए अपने सभी राजनीतिक कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है।

अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में संबित पात्रा ने कहा था कि “प्रधानमंत्री व बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की रैलियों सहित सभी राजनीतिक कार्यक्रम रद्द कर दिये गये है । भारतीय जनता पार्टी सैनिकों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है। हम राष्ट्र के साथ है ।”

लेकिन प्रेस कॉन्फ्रेंस के कुछ देर बाद ही पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश के झाँसी में एक चुनावी रैली को संबोधित किया । पीएम मोदी ने इस रैली को संबोधित कर कथित तौर पर साबित कर दिया कि वो अपने चुनाव अभियान को सैनिकों की शहादत से ज्यादा तवज्जो देते है । उनकी पार्टी की चुनावी रैलियों को रद्द करने की खबरें सिर्फ दिखावा थी, भाजपा प्रवक्ता की कही बातें सच से कोसों दूर थी ।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 फरवरी के दिन पहले तो भारत की पहली सेमी हाई-स्पीड ट्रेन ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ को हरी झंडी दिखाई । उसके तुरंत बाद उन्होंने उत्तर प्रदेश के झाँसी में एक चुनावी रैली को संबोधित किया । इस चुनावी रैली में उनके साथ केंद्रीय मंत्री उमा भारती व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे ।

घटना के अगले दिन रैली करने पर वायरल तस्वीर

पीएम मोदी ने इस रैली को संबोधित करते हुए कहा कि “2014 में भारतीय जनता पार्टी को शानदार जीत दिलाने के लिए ‘उत्तर प्रदेश के मतदाताओं’ को धन्यवाद देता हूँ और ‘आने वाले दिनों’ में भी वही ‘आशीर्वाद’ बनाये रखें ।”

सोशल साइट्स पर वायरल तस्वीर

गौरतलब है कि पुलवामा में गुरुवार को जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी, जिसमें 42 जवान शहीद हो गए जबकि कई गंभीर रूप से घायल हैं ।

सोशल साइट्स पर शेयर की जा रही पोस्ट का स्क्रीनशॉट

उक्त हमले के पश्चात भी भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कर्नाटक में एक रैली को संबोधित कर रहे थे और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ केरल में एक रैली को संबोधित कर रहे थे । और तो और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उत्तराखंड में एक रैली को संबोधित कर रहे हैं थे ।इसके अलावा और दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने गुरुवार रात को एक रंगारंग कार्यक्रम में प्रस्तुति दी जबकि मंत्री पीयूष गोयल अपने गठबंधन सहयोगियों को मना रहे थे । यह सब दिखाता है कि भारतीय जनता पार्टी सैनिकों की शहादत को लेकर गंभीर नहीं थी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here