नौ दिन चली दिल्ली सचिवालय में भाजपाई नौटंकी

971

दिल्ली में मुख्यमंत्री केजरीवाल दिल्ली में घर घर राशन और अधिकारियो के मीटिंग में ना आने के मसले पर धरने पर क्या बैठे मानो बीजेपी के लिए जान गले में आ गयी क्योंकि धरना केजरीवाल का वो हथियार है जिसकी काट फिलहाल तक किसी के पास नही है, ऐसे में आनन फानन में बागी कपिल मिश्रा के साथ बीजेपी के 4 विधायक और एक सांसद दिल्ली सचिवालय में पहुँच गए बोले- धरना करेंगे cm ऑफिस के बाहर , अब जानिये एक 9 दिन के स्पेशल धरने की कुछ स्पेशल बातें -:-

  1. आये जब बैठे थे सोफे पर, फिर बाद में गद्दे और तकिये मंगवाए |
  2. आये जब जो कपड़े पहने थे अगले दिन कपड़े भी बदले बदले दिखे |
  3. 3-4 दिन बैठने के बाद भी गुप्ता, मिश्रा, वर्मा, प्रधान की दाढ़ी में कोई फर्क नही दिखा मानो रोज सलून जाते हो |
  4. एक दिन शिकायत की, बोले शोचालय बंद करवा दिए गए है, फिर पता चला वो शोचालय का कमरा था ही नही |
  5. सरकारी भवन में जगह जगह पोस्टर, बैनर लहराए, और चिपका भी दिए |
  6. आये जब बोले की यही जमे रहेंगे लेकिन कभी राजघाट तो कभी सचिवालय के बाहर घूमते दिखे |
  7. खुद ही बोले की तबीयत बिगड़ने लगी है, वहीँ दूसरी और गाना गाते दिखे |

देखिये एक एक चित्र और उसके साथ पढिये क्या लिखा हुआ है :-

 इतनी ठंड कहाँ है भाई, AC का तापमान कम कर लो

 

आज सेहत खराब है याद रखिये आज है तारीख 19 जून 2018. अब देखिये अगले दिन झट से तबियत ठीक हो जाएगी

 

 

 सेहत कल तक ही खराब थी, लेकिन आज बिलकुल फिट हैं, अरे कोई शेखर गुप्ता को ये भी बता तो वो तो सत्येंद जैन और मनीष पर सवाल उठा रहे थे की कल ही तो तबियत खराब थी आज प्रेस कांफ्रेंस कर रहे है, ये साहब तो बाकायदा  प्रदर्शन कर रहे है |

 

सचिवालय में से उठने का नाम ही नही ले रहे थे और अब खुद इधर उधर निकल पड़े हैं, चेहरा चमकाना जरूरी है , चाहे दिवंगत आत्माओ का ही सहारा लेना पड़े |

 

 

 

बात सचिवालय में हुई थी की अब यहाँ से नही उठेंगे जब तक cm नही आते लेकिन खुद ही भाग निकले और फिर दोबारा घुस गए जैसे कोई पार्क समझा हो सचिवालय को |

 

अरे भाई सचिवालय में धरने का क्या हुआ, बाहर कैसे आ गए |

 

 

 

 

 

 

 

 लो जूस पिलो अब नाटक खत्म

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here