आवश्यक बदलाव के बिना राजस्थान में पदमावती फिल्म का प्रदर्शन नहीं – मुख्यमंत्री

812
जयपुर। राजपूत समाज में बढ़ते आक्रोश को देखते हुए मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश के बाद अब राजस्थान सरकार ने भी प्रदेश में संजय लीला भंसाली की फिल्म “पद्मावती” पर बैन लगाने का मानस बनाया है। प्रदेश के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने मीड़िया को बताया कि खुफिया रिपोर्ट्स मिलने के बाद सरकार फिल्म पर सिनेमा एक्ट की धाराओं के तहत बैन लगाने पर विचार कर रही है।

अब राजस्थान में लगेगा फिल्म “पद्मावती” पर बैन……

विवादों से घिरी फिल्म पद्मावती पर पड़ौसी राज्यों द्वारा बैन लगाने और राजपूत समाज में बढ़ते आक्रोश को देखते हुए वसुंधरा राजे सरकार ने भी राजस्थान में बैन लगाया जाना लगभग तय है। इधर संजय लीला भंसाली की फिल्म “पद्मावती” को लेकर राजस्थान में घमासान जारी है।
केंद्रीय सूचना-प्रसारण मंत्री स्मृति इरानी को 18 नवम्बर 2017 को लिखे पत्र में सीएम श्रीमती वसुंधरा राजे ने साफ स्पष्ट किया है कि जब तक दिये गये सुझावों पर अमल, आवश्यक बदलाव नहीं होता, तब तक ‘पद्मावती’ फिल्म का राजस्थान में रिलीज(प्रदर्शन) करने की सरकार की अनुमति नहीं होगी। वसुंधरा राजे ने स्मृति इरानी से फिल्म में बदलाव के बाद ही रिलीज किए जाने की अपील की थी।
उल्लेखनीय है कि उक्त पत्र में सीएम ने यह सुझाव दिया था कि उक्त फिल्म एवं इसके कथानक पर प्रसिद्ध इतिहासकारों, फिल्मी हस्तियों और समाज के प्रतिनिधियों की एक समिति द्वारा इसकी समीक्षा करवाकर यह सुनिश्चित कर लिया जाए कि राजपूत समाज की भावनाएं आहत ना हों।
इससे पूर्व सोमवार को कर्नाटक में मंदिर दर्शन के बाद मुख्यमंत्री को गृहमंत्री श्री गुलाब चंद कटारिया ने अवगत कराया कि फिल्म वितरकों द्वारा स्वेच्छा से ही पदमावती फिल्म के वितरण को स्थगित कर दिया है।
मुख्यमंत्री ने यह स्पष्ट किया कि कानून व्यवस्था को सुनिश्चित रखना राज्य की सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसे हर हालत में बहाल रखा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here