फागलवा से पाटोदा तक अधुरी छोड़ी खन्डर रोड़ को लेकर ग्रामीणों ने बसों को रोककर दिया धरना

710

सीकर- उपखंड लक्ष्मणगढ़ व धोद में फागलवा से पाटोदा तक बनाईं जाने वाली रोड़ को पूरी नहीं बनाने को लेकर क्षेत्र के कई गांवों के ग्रामीण लोगों ने खन्डर रास्ते की अधुरी रोड़ रास्ते पर ग्रामीण लोगों ने एक आम सभा की। सभा में इस रोड़ को पूरा नहीं करने तक आन्दोलन के लिए रोड़ बनाओं संघर्ष समिति का गठन किया। आज करीबन दो घन्टे तक बसों और छोटे वाहनों को रोककर विरोध प्रर्दशन किया गया।

सभा को पूर्व पंचायत समिति सदस्य नरेन्द्र बाटड़ ने सम्बोधित किया। बाटड़ ने अपने सम्बोधन में बताया कि कुछ महीनों पहले फागलवा से पाटोदा तक नई रोड़ बनाने का उद्घाटन धोद क्षेत्र के विधायक गोवर्धन वर्मा ने किया। जो समाचार पत्र-पत्रिकाओं की प्रमुख खबर बनी थी लेकिन फिर भी ये फागलवा से पाटोदा तक रोड़ नहीं बनाकर बठोठ से तीन किलोमीटर पहले ही चुड़ोली तक की सड़क जोड़कर अधुरी छोड़ दी गई। जिससे इस रास्ते से सीकर से सालासर जाने वाले ग्रामीण बसे और कई अन्य रुट के कई गांवों के लोगों में इस छोड़ी हुई अधुरी रोड़ को लेकर जनाक्रोश है।

जाम लगाकर छोड़ी हुई अधुरी रोड़ को पुरा करने की मांग…

इस अधुरी रोड़ के रास्ते में कहीं-कहीं पर तो लगभग एक फुट से भी ज्यादा गहराई के भारी गडो में बनी हुई है और अब नई रोड़ बनाकर भरने से ही क्षेत्र के लोगों का ये जन आक्रोश मिटेगा। इसलिए प्रशासन व जनप्रतिनिधियों को जगाने के लिए इस रुट की सभी बसों को रोककर रास्ते पर सभा कर दो घन्टे का धरना दिया और मोके पर ही “रोड़ बनाओ संघर्ष समिति” का गठन किया गया है।
प्रशासन व जनप्रतिनिधियों से क्षेत्र के लोगों की मुख्य मांग है कि अधुरी छोड़ी गई इस रोड़ के निर्माण को शीघ्र पुरा करें। वरना संघर्ष समिति के बैनर तले एक बड़ा जन आन्दोलन शुरू किया जायेगा।

सभा को मनोज खीचड़, मोहम्मद वकिल सांखला, छगनलाल बठोठ, रामचंद्र कलवानिया, रिछपाल सिंह कविया चुड़ोली, विवेकानंद विकास समिति अध्यक्ष अजय बाजिया, महेश खीचड़ बठोठ, बाबुलाल पारीक डालमास, सुभाष सैन बठोठ, रामस्वरूप वर्मा पाटोदा ने भी सम्बोधित किया।

इस मौके पर विवेकानंद युवा विकास समिति सचिव मुकेश माहिच, कोषाध्यक्ष गोपाल फगेड़िया, ताराचंद कलवानिया, घिसालाल शर्मा, रामचंद्र ढाका, मनीष कंसवा, सुभाष ढाका, महिपाल खीचड़, राकेश मेघवाल, चांद खां पाटोदा, सायरा बानु पाटोदा, सरवर सांखला, रिड़मल सिंह, जगदीश कलवानिया, हरिराम चुड़ोली, लालचन्द चौहान चुड़ोली, सुभाष चौहान, बाबूलाल ढाका चुड़ोली, राजकुमार चुड़ोली सहित सैकड़ों ग्रामीण लोग महिलाएं छात्र उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here