चंबल नदी में सीवरेज गंदगी डालने का प्लान तैयार, समाजसेवी करेंगे चम्बल बचाओ आंदोलन

220

कोटा। राजस्थान प्रदेश की गंगा के रुप में पहचान रखने वाली चंबल नदी का पानी अब जलचरों की जान पर भारी पड़ रहा है। ऐसा ही कुछ कोटा में घटित हुआ, जहां एक तरफ जहां जल शुद्धिकरण के तहत देश में नमामि गंगे जैसे बड़े प्रोजेक्ट चल रहे हैं, वही शिक्षा नगरी कोटा में जिले की जीवनदायिनी बनी चंबल नदी में सीवरेज गंदगी डाल गंदा करने में खुद नगर निगम आगे आ रहा है।

प्रदेश की गंगा में सीवरेज गंदगी…

शहर के वार्ड 20 में किशोरपुरा गोविंद धाम मंदिर के पास चार मोखा जो कि घड़ियाल अभयारण्य क्षेत्र में आता है। यहां पर चंबल के तट पर नगर निगम ने जन-सुविधा के नाम पर अब चंबल को गंदा करने का प्लान तैयार कर दिया है। यहां पर नगर निगम के सहयोग से सुलभ शौचालय का निर्माण करवाया जा रहा है, जिसका निर्माण अभी चल रहा है। इस शौचलय की गंदगी के पाइप सीधे चंबल नदी में डाल दिए गए है।इसे रोकने के लिए पर्यावरण प्रेमी कई बार यूआईटी नगर निगम से मांग कर चुके हैं, लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ। स्थानीय लोगों व चंबल प्रेमियों में इस मामले को लेकर भारी आक्रोश व्याप्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here