भाजपा सरकार के कुशासन के शासन में “किसान कंगाल- युवा बेहाल, बदहाली के चार साल” पर कांग्रेस के तीर-कमान चले

339

सीकर- राजस्थान प्रदेश में भाजपा की वसुंधरा राजे के वर्ष पूर्ण होने पर कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन कर भाजपा को जन विरोधी बताते हुए प्रदर्शन किया। बीजेपी सरकार के चार साल के शासन को कुशासन बताते हुए भाजपा सरकार के खिलाफ “किसान कंगाल- युवा बेहाल, बदहाली के चार साल” की विफलताओ के विरुद्ध सीकर जिला मुख्यालय पर डाक बंगला के सामने जनसभा कर विरोध प्रदर्शन किया गया।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सीकर डीसीसी चीफ एवं विधायक गोविंद सिंह डोटासरा ने बीजेपी सरकार पर जमकर तंज कसे। डोटासरा ने बीजेपी द्वारा चुनावों के समय सुराज संकल्प यात्रा के दौरान किये गये वादों में से एक भी वादा सरकार द्वारा पूरा नहीं करने का आरोप लगाया।

बीजेपी सरकार में किसान को वीसीआर के नाम लूटा जा रहा है, और ना किसान को समय पर पूरी बिजली सरकार दे रही, कर्जमाफी के नाम पर वसुंधरा सरकार ने अन्नदाताओं के साथ धोखा कर अन्नदाता को गुमराह कर किया गया वादा भूलाने की कोशिश की जा रही रही है। किसानों की पूर्ण कर्जमाफी के लिए कांग्रेस का संघर्ष जारी है और आगे भी जारी रहेगा। सरकार से आज के हर वर्ग त्रस्त है तथा हर वर्ग सड़क पर सरकार के समक्ष अपनी मांगो के साथ आन्दोलनरत हैं, परन्तु सरकार अपने अधिकारों की मांग करने वालो के साथ लाठी व डंडे की भाषा से बात करती हैं।

वसुंधरा जी ने प्रदेश में एक भी स्कूल खोलने की जगह प्रदेश के पच्चीस हजार से भी ज्यादा स्कूलों को बंद करने का काम किया है। और प्रदेश के अच्छी स्थिति में चलने वाले करीबन तीन सौ से ज्यादा स्कूलों को पीपीपी मोड के नाम पर निजी हाथों में देने का फैसला किया है। जिसमें से सीकर जिले के भी तेरह सरकारी स्कूल शामिल हैं जिनको वसुंधरा सरकार ने लूटेरो के हाथ लूटने के लिये सोपने की बना ली है। एक ओर प्रदेश में निजी विद्यालयों में पहले से महंगी शिक्षा है और और गरीबो के बच्चे जिन सरकारी विद्यालयों में पढने चले जाते थे, लेकिन अब बीजेपी की सरकार की गलत नितियों की वजह से इन स्कूलों को भी पीपीपी मोड में जाने से गरीबो के बच्चे समय पर उच्चित और उच्च शिक्षा हासिल नहीं कर सकेंगे। सरकार चलाने में नाकाम हुई प्रदेश की मुखिया कल को(आने वाले दिनों में) पूरी सरकार को गिरवी रखने काम करने वाली हैं।

कानून व्यवस्था स्थापित करने में सरकार विफल – गोविंद डोटासरा

डोटासरा ने चर्मराती कानून व्यवस्था पर बोलते हुए कि कहा बीजेपी सरकार सूबे मे कानून का निजाम कायम करने में फेल हुई। जिस प्रकार से आपराधिक घटनाएं प्रदेश में घटी है वो बहुत चिंतनीय है। मोजूदा सरकार में बैठे मंत्रीयों के गैरजिम्मेदार बयान इस बात के सबूत हैं कि भाजपा सरकार जनता के भरोसे पर नाकाम रही।

लोकलुभावने वादे कर सत्ता हथियाई लेकिन ग्राउन्ड पर लोटने में शून्य रही…..

डोटासरा ने कहा सीकर की मेडीकल कॉलेज, कुम्भाराम लिफ्ट परियोजना, हर्ष पर्वत का रोप-वे, नवलगढ़ पुलिया की चौड़ाई, शेखावाटी यूनिवर्सिटी का भवन, मिनी सचिवालय आदि कार्यों में आज की दिनांक तक सरकार से एक भी वादा पूरा नहीं हो पाया है।

डोटासरा ने प्रदेश और केन्द्र की भाजपा सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा, सरकार ने कांग्रेस की कल्याणकारी योजनाओं पर ताला लगाने का काम किया है। और कांग्रेस की जनकल्याणकारी योजनाओं पर रंग-रोगन कर कांग्रेस के किये गए विकास कार्यो पर अपना नाम लिखने में सरकार अव्वल रही है। डोटासरा ने कार्यकर्ताओं से आने वाले समय में भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया।

 

बीजेपी से बागी होकर कांग्रेस में आये महरिया के भी वसुंधरा-मोदी के खिलाफ बोल चले….

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए पूर्व भाजपा नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया ने भाजपा के सुराज यात्रा में किये गये वादो के सुराज पत्र के वादों को विस्तार से बताते हुए कहा कि सरकार ने एक भी वादा पूरा किया नही है। बीजेपी के सारे वादे हवाहवाई हो गए। महरिया ने सरकार पर प्रहार करते हुए कहा शिक्षा, चिकित्सा, बिजली, पानी, कानून व्यवस्था, सड़क सहित तमाम मोर्चो पर सरकार विफल साबित हुई हैं। प्रदेश की जनता भाजपा के कुशासन से त्रस्त है।

अन्य वक्ता ज़िन्होने भी जनसमस्याओं को लेकर सरकार पर जवाबी हमला बोला….

कार्यक्रम को पीएस जाट, पूर्व विधायक रमेश खंडेलवाल, विधायक नंदकिशोर महरिया, पूर्व प्रधान वीरेंद्र सिंह, सभापति जीवन खॉ, भागीरथ जाखड़, सुनीता गठाला, सुरेश मोदी, कैलाश बोपीया, रक्षपाल स्वामी, रामदेव खोखर, कुलदीप रणवॉ, शुभकरण बिवाल, लालचंद झाझोटिया, भीवाराम , बुनियाद अली कुरैशी, जयनारायण मीणा और भंवर सिंह कुडली आदि वक्ताओं ने अपने सम्बोधन के जरिये सरकार को जमकर घेरा। और आने वाले समय में सरकार की विफलताओं के खिलाफ आमजन की आवाज़ को बुलंद करने का आह्वान किया।

प्रदेश की तीन सौ स्कूलो, जिले की तेरह स्कूल व लक्ष्मणगढ़ के नेछवा, रिणू आदि स्कूलो को पीपीपी मोड पर दिये जाने के सरकार के फैसले के खिलाफ लक्ष्मणगढ़ विधायक गोविन्द सिंह डोटासरा की अगुवाई में ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर महोदय को ज्ञापन सौंपा गया।

कार्यक्रम में कांग्रेस के पदाधिकारीगण, जनप्रतिनिधीगण, वरिष्ठ नेतागण, कार्यकर्तागण सहित भारी संख्या में लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here