शिक्षा राज्यमंत्री ने की अनूठी शुरूआत, संस्था प्रधान होंगे शिक्षा विभाग से ऑनलाइन कनेक्टेड, 3 हजार से अधिक संस्था प्रधानों को मिलेंगे टेबलेट

राज्य सरकार की अनूठी शुरूआत से संस्था प्रधान होंगे शिक्षा विभाग से ऑनलाइन कनेक्ट, 3 हजार से ज्यादा संस्था प्रधानों को मिलेंगे टेबलेट शिक्षा क्षेत्र में राजस्थान आया तीसरे स्थान पर, जिले के 167 प्रधानाध्यापक व प्रधानाचार्य को मिले टेबलेट

1052

जयपुर। प्रदेश सरकार में शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि पिछले 4 सालों में राजस्थान में स्कूली शिक्षा में क्रान्तिकारी रूप से सकारात्मक बदलाव हुआ है। राजस्थान शिक्षा के क्षेत्र में 18वें से तीसरे स्थान पर आ गया है। और बहुत ही शीघ्र हम पूरे देश में अव्वल होंगे। प्रदेश की यह सफलता हमारे योग्य शिक्षकों के बल पर है। हम इस परिवर्तन को और गति देंगे, ताकि हमारे विद्यार्थी पूरे देश में सबसे आगे रहें। वर्तमान युग सूचनाओं के तेजी से आदान-प्रदान का युग है। इसलिए प्रदेश राजस्थान के सभी संस्था प्रधान अब शिक्षा विभाग से ऑनलाइन भी कनेक्टेड होंगे।

टेबलेट वितरण योजना का शुभारम्भ…

शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने आज शनिवार को अजमेर से प्रदेश के सभी प्रधानाध्यापक एवं प्रधानाचार्यों को टेबलेट वितरण योजना का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा- “टेबलेट वितरण से संस्था प्रधान सीधे शिक्षा विभाग से सम्पर्क में रहेंगे। सूचना के आदान -प्रदान में तेजी आएगी। शैक्षिक गुणवत्ता के लिए हमने कक्षा एक से 8 तक विद्यालयों में लर्निंग लेवल तय किए हैं। राजस्थान प्राथमिक शिक्षा परिषद् और रमसा को एकीकृत करके प्रदेश में शिक्षा का और अधिक प्रभावी विकास किया जाएगा।”

नवाचारों को अपनाते हुए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने पर 18 वें स्थान से तीसरे स्थान पर आये…

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पिछले 4 सालों में नवाचारों को अपनाते हुए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए प्रतिबद्ध रहते हुए 85 हजार करोड़ रूपये व्यय कर राजस्थान प्रदेश को शिक्षा क्षेत्र में अग्रणी राज्य बनाने की पहल की है। इसी से हाल के आए राष्ट्रीय सर्वे में कभी 18 वें स्थान पर रहने वाला राजस्थान आज शिक्षा क्षेत्र में तीसरे स्थान पर आ गया है।

पदोन्नतियॉं कर रिक्त पदों को भरा…

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पिछले चार सालों में प्रदेश में स्कूलों के एकीकरण, प्रत्येक ग्राम पंचायत में 9 हजार 895 आदर्श एवं 9500 उत्कृष्ट विद्यालयों की स्थापना की। जहां पहल की वहीं एक लाख 9 हजार शिक्षकों की रिकॉर्ड पदोन्नतियॉं प्रदान की। इसके साथ ही जिला शिक्षा अधिकारी के सभी पद भर दिए गए। आज 142 जिला शिक्षा अधिकारी पद भरे हुए हैं साथ ही प्रधानाचार्य के भी 95 फीसदी से ज्यादा पद भर दिए गए है।

सत्ता में आये तब 52 फीसदी खाली थे और अब केवल 15 फीसदी है…

उन्होंने कहा कि सरकार जब बीजेपी सत्ता में आई तब प्रदेश में शिक्षा क्षेत्र में 52 फीसदी शिक्षकाें के पद रिक्त थे, जो अब घट कर मात्र 15 फीसदी तक ही रह गए है। उन्होंने कहा कि राज्य में एक लाख 50 हजार के करीब नवीन नियुक्तियॉं की पहल की गई है। इसमें सीधी भर्ती से 87 हजार 634 पदों पर शिक्षकों की जहां नई नियुक्तियां की है वहीं 16 हजार 669 पदों पर शिक्षकों की भर्ती प्रक्रियाधीन है।

गुणवत्तापूर्वक शिक्षा देने से नामांकन में ऐतिहासिक बढ़ोतरी

उन्होंने कहा कि 4 साल पहले विद्यालयों में 60 लाख का नामांकन था। राज्य सरकार द्वारा राजकीय विद्यालयों के सुदृढ़ीकरण के लिए किए प्रयासों से सरकारी विद्यालयों के स्तर में वृद्धि हुई। इसी का परिणाम रहा कि आज सरकारी विद्यालयों में 82 लाख के करीब नामांकन हो गया है। यानी पिछले 4 सालों में नामांकन में 22 लाख की वृद्धि हुई है।

राष्ट्रीय सर्वेक्षण और ‘असर‘ की रिपार्ट में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से राजस्थान पहले नम्बर पर रहा, वहीं ‘स्वच्छ विद्यालय‘ योजना के अंतर्गत तीसरे स्थान पर रहा…

शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी ने कहा कि पिछले चार वर्ष शिक्षा में बेहतरीन विकास के रहे है। राष्ट्रीय सर्वेक्षण में और ‘असर‘ की रिपार्ट में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा में राजस्थान जहां पहले नम्बर पर रहा है वहीं भारत सरकार द्वारा ‘स्वच्छ विद्यालय‘ योजना के अंतर्गत भी देशभर में राजस्थान आंध्रप्रदेश और तमिलनाडू के बाद तीसरे स्थान पर रहा। सरकारी विद्यालयों का परीक्षा परिणाम निजी विद्यालयों से आगे निकला। बालिका शिक्षा में राजस्थान अग्रणी हुआ और 75 फीसदी से ज्यादा अंक लाने पर मिलने वाले गार्गी पुरस्कार की संख्या में भी इन प्रयासों के कारण तीन गुना तक वृद्धि हुई। आज 1 लाख 46 हजार बालिकाओं को यह पुरस्कार दिया जा रहा है।

स्टार्फिंग पैटर्न की सराहना हुई…

मंत्री देवनानी ने कहा कि प्रारंभिक शिक्षा में पंचायत स्तर पर सुदृढ मोनिटरिंग के लिए पंचायत एलिमेंट्री एजुकेशन ऑफिसर लगाए गए है। देशभर में स्टार्फिंग पैटर्न की सराहना हुई है। चरणबद्ध तरीके से प्रदेश में प्री-प्राईमरी स्कूल की शुरूआत। इसके तहत 11500 आंगनबाड़ी केन्द्रों को स्कूलों से एकीकृत किया गया। विद्यालयों के विकास के लिए विद्यालय सलाहकार समितियों का गठन किया गया। मातृशक्ति से शैक्षिक उन्नयन के लिए पहली बार ‘मदर-टीचर्स‘ बैठकों का आयोजन किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here