अस्पताल में अमृत की बेकद्री, 15 मिनट तक टंकियों से बहता रहा पानी, मरीजों को पीने के लिए पानी नहीं

एसके हॉस्पिटल में अव्यवस्थाएं थमने का नाम नहीं, अस्पताल में एक ओर पानी की बर्बादी हो रही है। अस्पताल की छत पर लगी टंकियां ओवर फ्लो हो गई और पानी बहता रहा...

518

सीकर- जिला मुख्यालय पर सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल एसके हॉस्पिटल में अव्यवस्थाएं थमने का नाम नहीं ले रही है। एसके अस्पताल में एक ओर पानी की बर्बादी हो रही है। अस्पताल में शुक्रवार सुबह साढ़े दस बजे अस्पताल की छत पर लगी टंकियां ओवर फ्लो हो गई और पानी बहता रहा वहीं अस्पताल में लगी पानी की प्याऊ अस्पताल के कई वार्डों में मरीजों के लिए पीने का पानी तक नहीं पहुंच रहा है। अस्पताल में मरीजों के लिए पानी की प्याऊ के मटके खाली पड़े है। मरीजों के पीने के लिए पानी बाहर से खरीदकर लाना पड़ रहा है। हालांकि देर शाम तक जुगाड़ करके अस्पताल में पानी की पाइप लाइन ठीक करवाई गई।

आधे अस्पताल में नहीं आ रहा पानी…

कल्याण अस्पताल में पिछले कुछ समय से बरसों पुरानी पाइप एवं डैमेज लाइन होने के कारण पानी लीक हो रहा है। इसका नतीजा है कि अस्पताल के आधे परिसर में पानी ही नहीं पहुंच रहा है। कई जगह पानी नलों की बजाए दीवारों में सीलन के रूप मे नजर आ रहा है। इसे देखते हुए अस्पताल प्रबंधन ने पाइप लाइन में सुधारने के लिए मिस्त्री को कहा तो पता चला कि पूरे अस्पताल की पाइप लाइन ही बदलनी होगी। लेकिन मेडिकल कॉलेज से अटैच होने के बाद अस्पताल में केवल एमसीआई नाम्र्स के अनुसार ही निर्माण कार्य करवाने के निर्देश है।

यह भी है कारण…

अस्पताल में पीने के पानी के लिए बना बोरिंग भी घटते भूजल स्तर के कारण कम पानी देने लगा है। वहीं गर्मी के कारण पानी की खपत भी बढ़ती जा रही है। इससे पानी का संकट हो रहा है। हालांकि पूर्व में पानी के लिए पानी की नई बोरिंग लगाई गई थी। इसके बाद कुछ राहत मिली थी।

इनका कहना है…

पुरानी होने के कारण पानी की पाइप लाइन क्षतिग्रस्त हो गई है। इसके लिए अब अस्पताल में पाइप लाइन बदलवाने का काम करवाया जाएगा।
– डॉ. हरि सिंह, डिप्टी कंट्रोलर, एसके अस्पताल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here