मोदी का सिस्टम देश को ले डूबा।

336

महामारी मे लिए गए गलत निर्णयों से देश की अर्थव्यवस्था को गहरा झटका लगा है। लोगों मे गुस्सा और निराशा अपनी चरम सीमा पर है। जनता कर्फ्यू और अनेकों लॉकडोन के बावजूद देश में कोरोना संक्रमण तेज़ी से फैलता जा रहा। ट्विटर पर लाखों लोग पीएम नरेंद्र मोदी से यही सवाल कर रहे हैं कि अर्थव्यवस्था को संभालने और कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए अब सरकार की क्या नीति है। कोरोना काल में अनेकों लोगों का रोजगार छीन गया, लाखों के परिवार बिखर गए और हजारों भुखे पेट सोने को मजबूर है। मोदी जी के कई गलत निर्णयों का परिणाम ही इस समय देश की इस निंदनीय हालात का जेमेवार है।

महंगाई कर रही लोगों का जीना हराम:

इतने बुरे समय में यह पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दाम आग में घी डालने का काम पुरी तीव्रता से कर रहे हैं। लोगों की परेशानियां महंगाई से दोगुनी होती जा रही हैं।

सॉशल मिडिया पर मोदी के खिलाफ हैशटैग की बाढ़:

जन साधारण अपनी विवशता, असहाए एवं उदासीनता को सॉशल मिडिया द्वारा फैला रहा है। हर ओर विद्रोह देखा जा सकता है। प्रत्येक व्यक्ति अपनी अभिव्यक्ति सॉशल मिडिया द्वारा ” #मोदीफैल #मोदीकासिस्टमले_डुबा” जैसे हैशटैग इस्तेमाल कर के कर रहा है।
यह सब हैशटैग मोदी सरकार पर महामारी मे हुई लापरवाहियों का जिमेवार कोन है से लेकर बेरोजगार हुए लोगों के सहारे तक कई सवाल खड़े कर रहे हैं।

बढ़ती बेरोजगारी:

2018 में बेरोजगारों के आंकड़े से दोगुने लोग आज बेरोजगार हैं और अपने हर रोज़ की जरूरतों को पुरा करने मे भी असमर्थ हैं।
यह हैशटैग मोदी सरकार की डुबती नीतियों एवं लोगों का सरकार से विश्वास उठ रहा है इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here