अब एनआईए करेगी हिंदू नेताओं की हत्या की जांच

882

चंडीगढ़: पंजाब प्रदेश मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार ने पिछले दो सालों में हुई धार्मिक नेताओं की हत्या की जांच ‘राष्ट्रीय जांच एजेंसी-एनआईए‘ द्वारा करवाने का फैसला किया है। प्रदेश सरकार को लगता है कि इन हत्याओं के विदेशो से हो सकते है किलर कनेक्शन। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इन हत्याओं के तार जुड़े हाेने के अंदेशे के कारण, सरकार इन हत्याओं से संबंधित मामलों की जांच जांच एजेंसी एनआईए से करवाना चाहती है।

एनआईए अधिनियम 2008 की धारा 8 के तहत, मामला एनआईए को सौंपे जाने का निर्णय लिया गया है। डा.वाई.सी मोदी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जांच एजेंसी-एनआईए टीम ने पंजाब पुलिस के अधिकारियों के साथ विचार विमर्श करने के बाद मामले को बदलने का फैसला किया है।

जानकारी के अनुसार इन हत्याओं के षड्यंत्रकारी ब्रिटेन, कनाडा, इटली जैसे देशों से काम कर रहे थे, जो इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने के लिए पैसे मुहैया करवा रहे थे। इस फैसले के बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पुलिस को निर्देश दिये हैं जांच की सारी जानकारी एनआईए को सौंपी जाएंगी।

गौरतलब है कि हिंदू नेताओं की हत्या के मामले में पुलिस ने हाल ही में ब्रिटिश नागरिक जगतार सिंह जाौहल और कुछ अन्य लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। जनवरी 2016 से अक्टूबर 2017 तक, आरएसएस, शिवसेना, डीएसएस नेताओं ने हत्या और हत्या से संबंधित मुद्दों को सुलझाने के लिए ऐसा किया है। एक अधिकारी ने कहा कि इस कदम का मुख्य उद्देश्य इंटरपोल और विदेशी सरकार के सहयोग से विदेशी देशों में संगठनों और लोगों के खिलाफ कार्रवाई करनी है, जो पंजाब के खिलाफ गैर-स्थायी जमीन पर बैठे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here